what is a balanced diet really

वास्तव में संतुलित आहार है क्या?

Health

आप सोच रहे होंगे, कि वास्तव में संतुलित आहार है क्या। सरल शब्दों में कहें तो यह एक ऐसा आहार है , जो आपके शरीर को ठीक से काम करने के लिए पोषक तत्व प्राप्त करने में मदद करता है।

आज की इस भाग दौड भरी जिन्दगी में लोगों के पास समय का अभाव होने के कारण लोग अपनी भूख को शांत करने के लिय बाजार की दुकानों या ठेलों पर जाकर अपनी भूख को शांत करने के लिय तीखे चटपटे मसालेदार भोजन जैसे पकोड़े , कचोरी , समौसा , छोला भटूरा आदि ऑयली फूड्स का उपयोग खाने में करते है और यह जंक फूड्स आपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते है और इन खाद्य पदार्थो के उपयोग करने वाले लोग अक्सर बीमार हो जाते है |

 जब यह लोग अपनी बीमारी का इलाज करवाने के लिय डॉक्टर के पास जाते है तो डॉक्टर इनको अपनी डाइट में बदलाव करने की सलाह देते है क्योकि डॉक्टर्स को पता होता है की लीवर का इन्फेक्शन या आंतो में सुजन की समस्या अक्सर खाने पिने में ज्यादा ऑयली फूड्स का इस्तेमाल करने से होते है लेकिन आज हम आपको स्वास्थ्य को फिट रखने एवं हेल्दी बनाए रखने के लिय जो जरुरी डाइट चार्ट है उसके बारे में बताएँगे जिसका इस्तेमाल अगर आप खाने में करते है तो आप कभी भी बीमार नही होंगे बस आप इस आर्टिकल को लास्ट तक जरुर देखना यह आर्टिकल काफी फायदेमंद है |

 एक प्रॉपर मील प्लान को फॉलो करके आप शरीर के वजन को मेंटेन करने के साथ डायबिटीज, हडय रोग और अन्य प्रकार के कैंसर जैसी क्रॉनिक डिसीज के खतरे को कम कर सकते हैं। 

संतुलित आहार का पालन करने से वजन कंट्रोल में रहता है। संतुलित आहार खाने से स्वस्थ वजन बनाए रखने में भी मदद मिलती है। वजन घटाने वाले आहार पर बने रहना हमेशा संभव नहीं होता, ऐसे में एक संतुलित आहार ही लंबे समय में आपके वजन को स्वस्थ रूप से नियंत्रित करने का एकमात्र तरीका है।

रोगों और संक्रमणों से बचने के लिए बैलेंस डाइट बहुत जरूरी है। जब आप अपने आहार में विटामिन, मिनरल और अन्य पोषक तत्व खाते हैं, तो आपकी प्रतिरक्षा में सुधार होता है और आपका स्वस्थ आहार कैंसर, हृदय रोग, , मधुमेह और स्ट्रोक जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

डाइट में ज़्यादातर सब्ज़ियां, फल और साबुत अनाज, हेल्दी फैट और हेल्दी प्रोटीन खाने चाहिए। इसके साथ मीठे पेय पदार्थों से दूरी बनानी चाहिए। इसकी जगह ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीने की आदत डालें। एक्सपर्ट्स के अनुसार स्वस्थ रहने के लिए एक्टिव और स्वस्थ वज़न बनाए रखना बेहद ज़रूरी होता है।

एक स्वस्थ जीवनशैली के लिए संतुलित आहार और जरूरी पोषक  का सेवन बहुत जरूरी है। यदि इसे गंभीरता से ना लिया जाए, तो रोग, संक्रमण, थकान और लो परफॉर्मेंस की समस्या हो सकती है। खासतौर से अगर बच्चे पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करते, तो उनका विकास रूक जाता है और बार-बार बीमार पड़ सकते हैं।

आपके शरीर को सही मायने में पोषण तब मिल ता है , जब आप कैलेारी से भरपूर तरह-तरह के भोजन जैसे ताजे फल, सब्जियां, साबुत अनाज और प्रोटीन का सेवन करते हैं।

फल में पर्याप्त पोषक तत्व मौजूद हैं। डाइट में शामिल करें ढेर सारे फल, फल पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। जो आपकी इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने के लिए काफी हैं।

सब्जियां न छोड़े  पोषक तत्वों की कमी पूरी करने के लिए अलग-अलग रंग की अलग-अलग सब्जियां खाने की आदत डालें।पालक, केल, ग्रीन बीन्स, ब्रेकोली जैसे पोषक तत्वों से भरपूर सब्जी को अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए। अगर आपको ये सब्जियां पसंद नहीं है, तो वैकल्पिक तौर पर सूप, सलाद, प्यूरी, जूस और स्मूदी के रूप में इन्हें खा सकते हैं।  

     डेयरी उत्पादों में प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन डी सभी महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते हैं। इनमें फैट पर्याप्त मात्रा में है, इसलिए कम फैट वाले विकल्प अच्छे हैं। यदि आप अपना फैट कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो

             साबुत अनाज की रोटी आपके आहार में विटामिन और फाइबर की कमी पूरी करती है। अनाज एक डिश को स्वाद और बनावट दोनों देता है। इसलिए हमेशा साबुत अनाज से बने उत्पादों का ही चुनाव करें।

             फैट एनर्जी और सेल्स की हेल्थ के लिए फायदेमंद है। लेकिन बहुत ज्यादा फैट शरीर को जरूरत से ज्यादा कैलोरी उपभोग करने का कारण बन सकता है, जो वजन बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है। इसलिए सैचुरेटिड फैट के बजाए अपनी डाइट में अनसैचुरेटेड फैट को शामिल करें।

                 घाव भरने और मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए प्रोटीन की जरूरत होती है।प्रोटीन दो प्रकार का होता है। एनिमल बेस्ड प्रोटीन की कैटेगरी में रेड मीट जैसे बीफ और मीट शामिल है। रेड मीट को कैंसर के बढ़ते जोखिम से जोड़कर देख गया है । जबकि कुछ प्रोसेस्ड मीट में बहुत ज्यादा प्रिजर्वेटिव और नमक मिलाया जाता है। इसलिए सबसे अच्छा ऑप्शन है कि इन्हें ताजा खाया जाए। वहीं प्लांट बेस्ड प्रोटीन में नट्स, बीन्स और सोया प्रोडक्ट्स में प्रोटीन, फाइबर और अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं।

                  आप संतुलित आहार खाते हैं, जो बेहतर जीवन जी सकते हैं। लेकिन बीमार को रोकने, वजन को प्रबंधित करने और बेहतर महसूस करने के लिए अपने आहार में स्वस्थ बदलाव करने में न बहुत ज्यादा जल्दी और न देरी करें।

        स्वस्थ ही असली सोना है जो स्वस्थ नहीं उसे जीवन भर रोना हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.